Saturday, September 18, 2021
Homeराज्यगुजरातगुजरात : नमस्ते ट्रम्प : ट्रम्प दौरे पर 100 करोड़ खर्च किसके...

गुजरात : नमस्ते ट्रम्प : ट्रम्प दौरे पर 100 करोड़ खर्च किसके खाते में? इसलिए कागजों में यह ‘निजी कार्यक्रम’

अहमदाबाद. अमेरिकी राष्ट्रपति डाेनाल्ड ट्रम्प के शो ‘नमस्ते ट्रम्प’ को लेकर अब नई कहानी सुनाई जा रही है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा था कि यह केंद्र या राज्य सरकार का नहीं बल्कि निजी कार्यक्रम है, जो ट्रम्प नागरिक अभिनंदन समिति कर रही है। इसके बाद भास्कर की पड़ताल में पता चला कि इस आयोजन में आ रहे 100 करोड़ खर्च को सरकार के खाते में दिखाने से बचने के लिए समिति बनाई गई है। गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन के धनराज नाथवानी ने कहा कि यह मोटेरा स्टेडियम के उद्घाटन का शो भी नहीं है। अगर ऐसा होता तो खर्च एसाेसिएशन के खाते में आता।

चौंकाने वाली बात है कि शो के करीब 10 हजार पोस्टर, होर्डिंग्स में किसी कमेटी का नाम नहीं है। अहमदाबाद की मेयर ने शुक्रवार को ट्वीट किया, मैं अभिनंदन समिति की प्रमुख हूं। बाद में उन्होंने मोबाइल स्विच ऑफ कर दिया। कमेटी के कुछ सदस्य बाेले कि उन्हें कुछ पता ही नहीं है। उल्टा वे अपनी भूमिका पूछ रहे थे। इससे पहले पुलिस कमिश्नर कह चुके हैं कि नमस्ते ट्रम्प के निमंत्रक नगर निगम और कलेक्टर हैं। उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कहा है कि स्वागत में सरकार की सीधी भूमिका नहीं है।

तीन पाॅइंट में समझिए इस कार्यक्रम के पीछे की कहानी…

1.  सांसदों को सुबह ही पता चला कि वे भी समिति में हैं
अहमदाबाद पश्चिम के सांसद डॉ. किरीट सोलंकी समिति के सदस्य हैं। उन्होंने भास्कर से कहा कि आज सुबह ही पता चला, फोन आया था। खर्च समिति को उठाना है, इसके लिए फंड कहां से और कैसे आएगा, इस सवाल पर उन्होंने कहा, ऐसा किसने कहा? एक अन्य सदस्य हसमुख पटेल ने कहा कि समिति के काम के बारे में शनिवार को 12 बजे मीटिंग में तय होगा। फंड के बारे मेंं भी मीटिंग में चर्चा होगी।

2. कार्यक्रम पर 85 से 100 करोड़ खर्च का अनुमान 
‘नमस्ते ट्रम्प’ में 85 से 100 करोड़ रुपए तक खर्च हाेने का अनुमान है। अगर यह खर्च केंद्र या गुजरात सरकार को नहीं करना हो तो कौन कर सकता है, यह बड़ा प्रश्न है। अब इस कार्यक्रम के लिए तत्काल तैयार की गई समिति ही यह खर्च उठाएगी। समिति अनेक लोगों से चंदे के रूप में पैसा ले सकती है। बड़े काॅर्पाेरेट्स, सरकारी कंपनियां और सहकारी संगठन भी सीएसआर के तहत इसमें चंदा दे सकते हैं।

3. ट्रम्प नागरिक अभिनंदन समिति क्याें बनाई
ट्रम्प की यात्रा न तो भारत सरकार और न ही अमेरिकी सरकार का कार्यक्रम है। ऐसे में, गुजरात या केंद्र सरकार इसकी मेजबान नहीं हो सकती। न ही सरकारी फंड इस्तेमाल हो सकता है। इसलिए एक समिति गठित की गई है, जो मोटेरा में हो रहे कार्यक्रम की जिम्मेदारी ले सके। चूंकि यह निजी समिति होगी इसलिए  इसका सरकारी ऑडिट नहीं होगा। कार्यक्रम के बाद समिति का अस्तित्व खत्म कर दिया जाएगा।

स्टेडियम का उद्घाटन क्यों नहीं हो सकता

स्टेडियम का उद्घाटन करना हाे तो आयोजक के रूप में जीसीए का नाम होगा। अभी तक जीसीए के प्रमुख का चुनाव नहीं हुआ है। ऐसे में ट्रम्प के अभिनंदन पर होने वाला खर्च भी जीसीए के खाते में आ जाता।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments