Monday, September 27, 2021
Homeटॉप न्यूज़JNU स्टूडेंट्स कर रहे बहिष्कार, यूनिवर्सिटी वॉट्सऐप से लेगी एग्जाम

JNU स्टूडेंट्स कर रहे बहिष्कार, यूनिवर्सिटी वॉट्सऐप से लेगी एग्जाम

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में फीसवृद्धि को लेकर स्टूडेंट्स एंड सेमेस्टर एग्जाम का बहिष्कार कर रहे हैं. वहीं JNU प्रशासन ने एग्जाम लेने का अनोखा तरीका निकाला है. विश्वविद्यालय प्रशासन अब वॉट्सऐप और ईमेल के माध्यम से परीक्षा आयोजित करने की तैयारी में है.

ये है वो पत्र

इस बारे में सोमवार को सभी सेंटर के चेयर पर्संस को पत्र भेजा गया है. स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज (एसआईएस) के डीन अश्विनी के महापात्र ने कहा कि ये निर्णय कैंपस में असाधारण स्थिति के चलते स्कूलों के डीन और विशेष केंद्रों के अध्यक्षों की बैठक के बाद कुलपति और अन्य अधिकारियों की ओर से लिया गया है. लेकिन सभी स्कूलों में ये कदम उठाया जा रहा है या नहीं इसकी पुष्टि नहीं की जा सकती है.

उन्होंने पत्र में लिखा कि 16 दिसंबर को सुबह 9:30 बजे हुई बैठक में सर्वसम्मति से ये तय हुआ है कि जेएनयू के छात्रों के शैक्षणिक हित में, एमफिल / पीएचडी और एमए प्रोग्राम के लिए अंतिम सेमेस्टर परीक्षा में एक वैकल्पिक परीक्षा आयोजित की जाए.

पत्र में कहा गया है कि पाठ्यक्रम शिक्षकों द्वारा एमफिल और एमए कार्यक्रम के लिए पाठ्यक्रम के लिए पंजीकृत छात्रों को प्रश्न पत्र भेजे जाएंगे. केंद्र के अध्यक्ष केंद्र की आवश्यकता के अनुसार परीक्षा कार्यक्रम तैयार कर सकते हैं. छात्रों से अनुरोध है कि वे मूल्यांकन के लिए संबंधित पाठ्यक्रम शिक्षकों को उत्तर स्क्रिप्ट जमा करें. उन्होंने कहा कि परीक्षा की पटकथा प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 21 दिसंबर है.

ऐसे देंगे परीक्षा

पत्र में कहा गया है कि छात्र उत्तर पुस्तिकाओं को ईमेल या व्हाट्सएप के माध्यम से या व्यक्तिगत रूप से पाठ्यक्रम के शिक्षकों को व्यक्तिगत रूप से लिख सकते हैं. जो लोग समय सीमा के भीतर परीक्षा स्क्रिप्ट वापस करने में विफल रहते हैं, उन्हें 21 दिसंबर को अतिरिक्त दिन दिया जा सकता है.

इस प्रक्रिया को पारदर्शी तरीके से कैसे आयोजित किया जा सकता है, ये कैसे सुनिश्चित होगा कि छात्रों ने खुद से परीक्षा लिखी या नकल की, ये कैसे सत्यापित किया जा सकता है. Indian Express को जवाब देते हुए प्रो महापात्रा ने कहा कि दी गई परिस्थितियों में कोई दूसरा रास्ता नहीं है. मैं केवल छात्रों के भविष्य को लेकर चिंतित हूं.

जेएनयू के शिक्षक और छात्रसंघ (JNUTA) और (JNUSU) ने परीक्षा लेने के इस तरीके को पूरी तरह बेतुका करार दिया है.

JNUTA ने कहा कि ये पूरी तरह से अविश्वसनीय एकेडमिक एक्सरसाइज करके बार बार पूरी व्यवस्था का मजाक बनाया जा रहा है. जेएनयू प्रशासन ने जिस तरह से ये प्रक्रिया अपनाई है, इससे समझ में आता है कि उच्च शिक्षा में नेतृत्व कर रहे कितने अयोग्य लोग हैं.

कहने की जरूरत नहीं है कि नोट में प्रस्तावित कुछ भी तय प्रक्रिया के माध्यम से तय नहीं किया गया है।

जेएनयूएसयू ने कहा कि ये छात्रों को विभाजित करने और एक को दूसरे के खिलाफ खड़ा करने के लिए हैं जो हमेशा की तरह सफल नहीं होंगे, लेकिन व्यवस्थापक या एबीवीपी कोशिश कर सकते हैं.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments