Thursday, August 5, 2021
Homeदेशसात मिनट 32 सैकेंड में 100 बार सूर्य नमस्कार कर बनाया विश्व...

सात मिनट 32 सैकेंड में 100 बार सूर्य नमस्कार कर बनाया विश्व रिकार्ड

आज अंतरराष्ट्रीय योग दिवस है। कोरोना गाइडलाइन के चलते इस बार सार्वजनिक योग समारोह नहीं होंगे। लोगों से घरों में रहकर ही योग-प्राणायाम करने की अपील की गई है। जिले में कई ऐसे बुजुर्ग हैं, जो बचपन से ही योग-प्राणायाम कर रहे हैं। योग उनकी जिंदगी का हिस्सा है। इसी कारण जीवन के आखिरी वनवास में भी वे युवाओं की तरह फिट दिखते हैं।

रोज सुबह उठकर वॉकिंग करना हो या सूर्य नमस्कार की क्रिया को कभी छोड़ते नहीं हैं। कोरोनाकाल के ऐसे कई उदाहरण है, जहां योग के कारण कई मरीज जल्दी ही बीमारी को हराकर घर लौटे हैं। योग उनकी जिंदगी का हिस्सा था, इसी कारण कोरोना जैसी महामारी भी उन पर हावी नहीं हो पाई।

स्वस्थ रहने के लिए नियमित 15 मिनट योग करना जरूरी

सात मिनट 32 सैकेंड में 100 बार सूर्य नमस्कार कर विश्व रिकार्ड बनाने वाले रामरस इस साल अमेरिका एवं दुबई में योग शिविर के आयोजन में भाग लेकर देश का नाम रोशन करेंगे। रामरस का कहना है कि एक संस्था की ओर से वाे नवंबर में अमेरिका एवं दिसंबर में दुबई में योग शिविर में प्रशिक्षण देंगे। इसे पूर्व रामरस दुबई में योग के जरिए निरोग होने का संदेश दे चुका है।

25 वर्षीय योगी रामरस पिछले 6 साल से योग के क्षेत्र में कुछ करने का जुनून लिए अब भी तत्परता से जुटा हुआ है। विश्व योग दिवस पर उसका संदेश है कि हर व्यक्ति को सुबह कम से कम 15 मिनट अपने आप को स्वस्थ्य रखने के लिए नियमित योग करना चाहिए। वैसे तो एक छोटे से गांव में पैदा हुए। लेकिन निवाई तहसील के उसके गांव का नाम बड़ागांव है।

रामरस ने उस गांव का नाम बड़ा नाम ही नहीं किया। बल्कि देश के मान-सम्मान को विदेशों तक चमकाया है। रामरस का कहना है कि 2015 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विश्व योग दिवस शुरू कराए जाने के बाद उसका पूरा रुझान योग की और हो गया। उसने इस क्षेत्र में ही एकाग्रता के साथ निरंतर अभ्यास करना शुरू कर दिया।

मन में मां का संकल्प लिए उसने विश्व रिकार्ड बनाने की ठान ली। सतत प्रयास और नियमित अभ्यास से योगी रामरस रामस्नेही ने 10 फरवरी 2018 को जीवन इंटरनेशनल स्कूल चिड़ावा जिला झूंझुनू में मात्र 7 मिनट 32 सेकंड में 100 बार सूर्य नमस्कार कर दुनिया का सबसे तेज गति से सूर्य नमस्कार करने का विश्व रिकॉर्ड अपने नाम किया। वो अब भी अपनी मां की प्रेरणा से अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर योग के लिए उल्लेखनीय कार्य करना चाहता है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments